Piles during pregnancy and after delivery : Ayurveda treatment

Piles during pregnancy and after delivery : Ayurveda treatment   Author : Dr. Rahul Chauhan Consultant Anorectal Specialist Shri Dhanwantari Clinic, Ghaziabad     Piles during pregnancy Piles is a common condition now a days, but you’re more likely to get them when pregnant due to the level of certain hormones, and other factors in your body. Let’s have a look :- The hormone progesterone, relaxes the walls of your blood vessels and makes piles a lot more likely condition to occur. The weight of your baby as it grows, puts more pressure on your veins, leads to their enlargement […]

Read more

कब्ज़ की आसान चिकित्सा Remedies for constipation in Hindi

कब्ज़ की आसान चिकित्सा Easy remedies for constipation in Hindi   Author: Dr. Swastik Jain, Senior Ayurveda Consultant, Govt. of Uttarakhand आजकल हमारा जीवन बहुत कठिन हो गया है जहां एक तरफ कई बीमारियों के ऊपर जीत हासिल की जा रही है वहीँ दूसरी तरफ नित नयी बीमारियाँ सामने आ रही हैं. आयुर्वेद के अनुसार बीमारी चाहे जो भी हो अधिकाँश का मूल कारण कब्ज या विबंध को माना जाता है. ये एक बीमारी भी है और कई बीमारियों का लक्षण भी है. यदि इस पर विजय प्राप्त कर ली जाए तो कई रोगों से मुक्ति पाई जा सकती है.इसी […]

Read more

OBESITY : HOW TO CONTROL WEIGHT AND STAY FIT

OBESITY : HOW TO CONTROL WEIGHT AND STAY FIT Dr. Swastik Jain  Cosultant Ayurveda Physician M.O. I/c Ayurveda, Uttarakhand Govt. मित्रों आज मैं W.H.O. की रिपोर्ट देख रहा था जिसमें मोटापे के बारे में बहुत कुछ बताया गया था. तो सोचा कि आज इसी विषय पर आपसे चर्चा करी जाए और अपने विचार और अनुभवों को बांटा जाए. मेरे पास अनेक ऐसे रोगी आते हैं जो मोटापे से परेशान हैं और इसके बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जानना चाहते हैं और इससे मुक्ति पाना चाहते हैं. तो उनके जो जो प्रश्न होते हैं और इस दौरान जो चर्चा होती है […]

Read more

डायबिटीज- इससे बचाव है आपकी अपनी ज़िम्मेदारी

डायबिटीज- इससे बचाव है आपकी अपनी ज़िम्मेदारी डायबिटीज जिसे डॉक्टर डायबिटीज मेल्लिट्स भी कहते हैं आजकल प्रायः हर घर में पायी जाने वाली एक सामान्य बीमारी है। इसमें मनुष्य के रक्त में ग्लूकोस की मात्रा सामान्य से काफी बढ़ी हुई पायी जाती है। इसके कई कारण होते हैं। सामान्यतः या तो शरीर में इन्सुलिन कम मात्रा में स्त्रावित होता है या फिर शरीर स्त्रावित हो रहे इन्सुलिन के प्रति समुचित रूप से प्रतिक्रिया नहीं कर रहा होता है। इससे ग्रस्त लोगों में तीन लक्षण मुख्य रूप से पाए जाते हैं- पौलियूरिया (अधिक बार मूत्र त्याग के लिए जाना), पौलिडिपसिया (बहुत […]

Read more

कमर दर्द, स्लिप-डिस्क और सियाटिका : कारण, बचाव और उपचार

Low back pain, Sciatica : Causes, Prevention and treatments in Hindi कमर दर्द, स्लिप-डिस्क और सियाटिका : कारण, बचाव और उपचार  डॉ. नवीन चौहान, कंसलटेंट आयुर्वेद फिजिशियन      कमर के निचले हिस्से में दर्द की समस्या से अक्सर हमें दो चार होना पड़ता है. ऐसा दर्द जो कमर के निचले हिस्से से शुरू होकर एक या दोनों टांगों में चलता हुआ महसूस हो, सियाटिका का दर्द हो सकता है. सियाटिका में प्रभावित टांग में झुनझुनी या सुन्नपन भी हो सकता है. इस रोग में रोगी गिद्ध के सामान लड़खड़ा कर चलता है इसलिए आयुर्वेद में इस रोग को ग्रध्रसी […]

Read more

Success story of a recurrence case of Fistula in ano, treated at Shri Dhanwantari Clinic, Ghaziabad by Ayurveda Kshara sutra treatment

Success story of a recurrence case of Fistula in ano, treated at Shri Dhanwantari Clinic, Ghaziabad by Ayurveda Kshara sutra treatment   Mr. B. Prasad, aged about 42 years, a state government employee, felt some pain at his left perianal region in February 2104.  He consulted his General Physician who had prescribed him some regular NSAIDs (Pain killer) and antibiotics.  He got some relief but after a period of about 10-15 days, he felt some nodule or boil at the same site with some discharge of pus like material. He again visited his Physician who referred him to a reputed […]

Read more

More About Ayurvedic Pacifying Treatments (Shamana Chikitsa)

Shaman in Ayurveda Shaman Chikitsa or Pacifying therapy, is  milder than shodan methods including panchakarma. Shaman is required when the person is not fit for shodan or slightly harsh body purification methods. Other reasons to resort of Shaman (saman) can be lack of time or apprehensions of the person about Ayurvedic deep cleansing methods (panchakarma). Unlike in Shodhan chikitsa, shaman doesn’t try to eliminate vitiated dosha from the system. Shaman tries to put the doshic state in balance by medication. Here the aggravated dosha is balanced by either addition of subtraction of dosha elements. Shaman is not also as effective […]

Read more

Abscess in Ano-rectal region: An Ayurvedic view

Abscess in Ano-rectal region: An Ayurvedic view Anorectal abscess Anal abscess; Rectal abscess; Perirectal abscess; Perianal abscess; anal gland abscess; Abscess – anorectal An anorectal abscess is a collection of pus in the area of the anus and rectum. Causes, incidence, and risk factors Common causes of anorectal abscess include: Blocked glands in the anal area Infection of an anal fissure Sexually transmitted infection Deep rectal abscesses may be caused by intestinal disorders such as Crohn’s disease or diverticulitis. The following factors increase your risk for an anorectal abscess: Anal sex Chemotherapy drugs used to treat cancer Diabetes Inflammatory bowel disease (Crohn’s disease and ulcerative […]

Read more

कब्‍ज दूर करने के घरेलू उपचार (Hindi) Remedies for constipation

कब्‍ज दूर करने के घरेलू उपचार Home remedies for constipation सामान्य रूप से मल का निष्कासन ना होना तथा आंतों में मल का रूकना कब्ज कहलाता है॰ कब्ज से सम्बन्धित अन्य लेख पढ्ने के लिये यहां क्लिक करें; Constipation: Causes, Prevention and treatment as per Ayurveda कब्ज़ की आसान चिकित्सा REMEDIES FOR CONSTIPATION IN HINDI अनियमित दिनचर्या और खान-पान के कारण कब्‍ज और पेट गैस की समस्‍या आम बीमारी की तरह हो गई है। कब्‍ज रोगियों में गैस व पेट फूलने की शिकायत भी देखने को मिलती है। लोग कहीं भी और कुछ भी खा लेते हैं। खाने के बाद बैठे रहना, डिनर के बाद तुरंत सो जाना ऐसी आदतें हैं जिनके कारण कब्‍ज की शिकायत शुरू होती है। पेट में गैस बनने की बीमारी ज्‍यादातर बुजुर्गों में देखी जाती है […]

Read more

Ayurveda and Vaastu

Ayurveda and Vaastu According to Vaastu scriptures, there are two essential ways to maximize your health with ayurcveda and vastu Balancing The Influence Of 5 Cosmic Elements Harmonizing Your Doshas With 5 Elements Ether – hollow spaces in body, free fields Air – movements, joints, breathing Fire – digestion, burning and metabolism of cells, blood Water – liquids, lymph, mucus (together with earth) Earth – bones, teeth, solid bodily components BALANCING INFLUENCE OF FIVE ELEMENTS Vastu defects in each direction causes imbalance of 5 elements. Consequently give rise to various physical illnesses. Ether and water elements in north east: In […]

Read more
1 2 3