Natural Ayurveda beauty tips in Hindi

Natural Ayurveda beauty tips in Hindi बहुत आसान ब्यूटी टिप्स ज़रूर अपनाएँ   Dr. Swastik Jain, Consultant Ayurveda Physician   Under eye dark circles (आंखों के नीचे काले धब्बे होना )   आंखों के नीचे काले धब्बे होना आम समस्या है कम सोने, अधिक थकान होने, कमजोरी अथवा किसी बीमारी के कारण होते है । प्राय: नींद न आने की बीमारी के कारण होते हैं और उनकी आंखों पर काले धब्बे पड़ जाते है । नींद लेना स्वास्थ्य के लिये आवश्यक है ।यदि आपको नींद नही आती, आप को थकावट रहती है तो रोज सुबह घर में ही एक्ससाइज करनी […]

Read more

शहद: ऋषियों की आधुनिक युग को भेंट

शहद: ऋषियों की आधुनिक युग को भेंट आज का युग दौड़ का युग है। आधुनिकता की अन्धी दौड़ जिसमें हर कोई जल्दी में है, लेकिन क्यों है यह शायद वह खुद भी नहीं जानता। ऐसे में चिंताएं और नित नयी बीमारियाँ होना स्वाभाविक है। आजकल लोग भी भोजन से अधिक दवाइयां खा रहे हैं। विडंबना यह है कि पहले तो मनुष्य सुखी और स्वस्थ रहने के लिए धन कमाता है और फिर उसी सुख और स्वास्थ्य को पाने के लिए उस धन को दवाइयों पर खर्च कर देता है। ऐसे में आवश्यकता इस बात की है कि सभी लोग कुछ […]

Read more

डायबिटीज- इससे बचाव है आपकी अपनी ज़िम्मेदारी

डायबिटीज- इससे बचाव है आपकी अपनी ज़िम्मेदारी डायबिटीज जिसे डॉक्टर डायबिटीज मेल्लिट्स भी कहते हैं आजकल प्रायः हर घर में पायी जाने वाली एक सामान्य बीमारी है। इसमें मनुष्य के रक्त में ग्लूकोस की मात्रा सामान्य से काफी बढ़ी हुई पायी जाती है। इसके कई कारण होते हैं। सामान्यतः या तो शरीर में इन्सुलिन कम मात्रा में स्त्रावित होता है या फिर शरीर स्त्रावित हो रहे इन्सुलिन के प्रति समुचित रूप से प्रतिक्रिया नहीं कर रहा होता है। इससे ग्रस्त लोगों में तीन लक्षण मुख्य रूप से पाए जाते हैं- पौलियूरिया (अधिक बार मूत्र त्याग के लिए जाना), पौलिडिपसिया (बहुत […]

Read more

Diet and daily routine in Winter season : Hindi

शरद ऋतु और आपका आहार Author: डॉ० मोनिका श्रेष्ठा MS (Ayurveda) कंसलटेंट सर्जन व आयुर्वेद विशेषग्य      Diet and daily regimen in winters (1)——-शरद ऋतु में सूर्य की गरम किरणों के प्रभाव से शरीर में संचित पित्त प्रकुपित हो जाता है तथा रक्त भी पित्त के प्रकुपित होने से दूषित हो जाता है। ऐसी स्थिति में आहार-विहार संबंधी नियमों का पालन आरोग्य लाभ के लिए अति आवश्यक है। शरद-ऋतु में खुलकर भूख लगने पर ही भोजन करना चाहिए तथा ग्रहण किया जाने वाला भोजन स्वाद में मधुर, हल्का तथा तिक्त रस युक्त होना चाहिए… (2)—–वर्ष में कुल 6 ऋतुएं […]

Read more

कमर दर्द, स्लिप-डिस्क और सियाटिका : कारण, बचाव और उपचार

Low back pain, Sciatica : Causes, Prevention and treatments in Hindi कमर दर्द, स्लिप-डिस्क और सियाटिका : कारण, बचाव और उपचार  डॉ. नवीन चौहान, कंसलटेंट आयुर्वेद फिजिशियन      कमर के निचले हिस्से में दर्द की समस्या से अक्सर हमें दो चार होना पड़ता है. ऐसा दर्द जो कमर के निचले हिस्से से शुरू होकर एक या दोनों टांगों में चलता हुआ महसूस हो, सियाटिका का दर्द हो सकता है. सियाटिका में प्रभावित टांग में झुनझुनी या सुन्नपन भी हो सकता है. इस रोग में रोगी गिद्ध के सामान लड़खड़ा कर चलता है इसलिए आयुर्वेद में इस रोग को ग्रध्रसी […]

Read more

गिलोय : आयुर्वेद का अमृत

गिलोय है आयुर्वेद का अमृत   गिलोय (MIRACULOUS PLANT) एक बहुत ही उपयोगी आयुर्वेदिक औषधि है। यह दिव्य औषधि जिसे संस्कृत में गडूची और अम्रतवल्ली, अमृता,मराठी में गुडवेल, गुजराती में गिलो के नामो से जाने जाने वाली वर्षो तक जीवित रहने वाली यह बेल या लता अन्य वृक्षों के सहारे चढ़ती है। नीम के वृक्ष के सहारे चडऩे वाली गिलोय औषधि उपयोग के लिए सर्वश्रेष्ट होती है, इसी कारण इसे नीम-गिलोय भी कहा जाता है। फू ल लाल झुमकों में लगता है। अंगूठें जैसा मोटा तना प्रारम्भ में हरा, पकने पर धूसर रंग का हो जाता है,यही तना औषधि के […]

Read more

Health benefits of Dates/खजूर in Hindi

खजूर शरीर को स्वस्थ रखने और मजबूत बनाता है। खजूर में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है। इसमें बहुत ज़्यादा पौष्टिकता होती है। अगर पाचन शक्ति अच्छी हो तो खजूर खाना ज्यादा फायदेमंद है। 100 ग्राम खजूर से रोजाना की इतनी फीसदी ज़रूरत पूरी होती है। -डायटरी फाइबर -पोटैशियम -विटामिन बी6 -मैग्नीशियम -आयरन -कैल्शियम इससे सेहत को फायदे 1- इसमें बहुत अधिक मात्रा में डायटरी फाइबर पाए जाते हैं। इससे कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। इससे पाचन भी ठीक रहता है। 2- इसमें टैनिन नामक एंटी-ऑक्सीडेंट भी पाया जाता है। इससे संक्रमण दूर करने में मदद मिलती है। […]

Read more

फिशर: कारण, लक्षण एवं आयुर्वेद चिकित्सा Fissure Ayurvedic treatment causes symptoms Hindi

  फिशर: कारण, लक्षण एवं आयुर्वेद चिकित्सा Fissure : Causes, Symptoms and Ayurveda treatments डॉ नवीन चौहान, BAMS , CRAV (क्षार सूत्र) कंसल्टेंट आयुर्वेद फिजिशियन व गुदा रोग सर्जन   क्या होता है फिशर? What is a fissure? आमतौर पर गुदा से संबधित सभी रोगों को बवासीर या पाइल्स ही समझ लिया जाता है, लेकिन इसमें कई और रोग भी हो सकते हैं। जिन्हें हम पाइल्स समझते  हैं। ऐसा ही एक रोग है फिशर। इसे आयुर्वेद में गुदचीर या परिकर्तिका भी कहते हैं। इस रोग में गुदा के आसपास के क्षेत्र में एक चीरे या क्रैक जैसी स्थिति बन जाती […]

Read more

हल्‍दी वाला दूध पीने के 7 लाभ

हल्‍दी वाला दूध पीने के 7 लाभ =================== बहुत फायदेमंद हैं हल्‍दी वाला दूध। दूध जहां कैल्शियम से भरपूर होता है वहीं दूसरी तरफ हल्‍दी में एंटीबायोटिक होता है। दोनों ही आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बहुत लाभकारी होते हैं। और अगर दोनों को एक साथ मिला लिया जाये तो इनके लाभ दोगुना हो जायेगें। आइए हल्‍दी वाले दूध के ऐसे फायदों को जानकर आप इसे पीने से खुद को रोक नहीं पायेगें । 1.सांस संबंधी समस्‍याओं में लाभकारी ———————- हल्दी में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते है, इसलिए इसे गर्म दूध के साथ लेने से दमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों में कफ और साइनस […]

Read more

Swine flu : Ayurveda remedies | स्वाइन फ्लू आयुर्वेद‬

क्या है स्वाइन फ्लू स्वाइन फ्लू श्वसन तंत्र से जुड़ी बीमारी है, जो ए टाइप के इनफ्लुएंजा वायरस से होती है। यह वायरस एच1 एन1 के नाम से जाना जाता है और मौसमी फ्लू में भी यह वायरस सक्रिय होता है। 2009 में जो स्वाइन फ्लू हुआ था, उसके मुकाबले इस बार का स्वाइन फ्लू कम पावरफुल है, हालांकि उसके वायरस ने इस बार स्ट्रेन बदल लिया है यानी पिछली बार के वायरस से इस बार का वायरस अलग है। कैसे फैलता है? जब आप खांसते या छींकते हैं तो हवा में या जमीन पर या जिस भी सतह पर […]

Read more
1 2 3 4